Jeevith Parameshwar

गीतकार: डेविड बाग़

जीवित परमेश्वर की आराधना
जिंदगी भर मैं करता रहूंगा (2)
नया जीवन दिया यीशु
उस प्यार को कैसे भूलू (2)       ||जीवित||

कहां जाऊं किधर जाऊं
हर स्थान मैं विराज है
यीशु नाम में मेरा मुक्ति है
यीशु नाम में मेरा शांति है (2)
मेरा जीवन का स्रता है तू
सारे पृथ्वी का मालिक है तो (2)         ||नया जीवन||

मेरे सारे गुनाहों को
अपना क्रूस पर वह ले लिया
अपना लहू बहा के यीशु
मुझे शुद्ध और पवित्रा कर दिया (2)
मैं कभी ना तुझे त्यागूंगा
मैं कभी ना तुझे भूलूंगा (2)         ||नया जीवन||

Lyricist: David Bag

Jeevith Parameshwar Kee Aaraadhanaa
Zindagi Bhar Mai Karthaa Rahoongaa (2)
Nayaa Jeevan Diyaa Yeeshu
Us Pyaar Ko Kaise Bhoolu (2)         ||Jeevith||

Kahaa Jaau Kidhar Jaau
Har Sthaan Mein Viraaj Hai
Yeeshu Naam Mein Meraa Mukthi Hai
Yeeshu Naam Meraa Shaanthi Hai (2)
Meraa Jeevan Kaa Srathaa Hai Thu
Saare Pruthvee Kaa Maalik Hai Tho (2)        ||Nayaa Jeevan||

Mere Saare Gunaaho Ko
Apnaa Kroos Par Wah Le Liyaa
Apnaa Laahu Bahaa Ke Yeeshu
Mujhe Shuddh Aur Pavithraa Kar Diyaa (2)
Mai Kabhee Naa Thujhe Thyaagoongaa
Mai Kabhee Naa Thujhe Bhooloongaa (2)        ||Nayaa Jeevan||

Download Lyrics as: PPT

FavoriteLoadingAdd to favorites

Leave a Reply